Tuesday 19 March 2013

shubham bhavtu


मैं माटी की काया
माटी का रूप समाया
हरियाली हरती थकान
देती हर ताप से आराम

जल से चलता जीवन

प्रकृति को देता यौवन

10.52pm, 18/3/2013

mai mati ki kaya
mati ka roop samaya
hariyali harti thakaan
deti har taap se araam
jal se chalta jeevan
prakriti ko deta yauvan